उत्तर-प्रदेश

Venkey’s/NECC ग्रुप के एकाधिकारी व्यवहार से   बरबादी के कगार पे अंडा उत्पादक किसान।

किसानों को लगातार प्रति अंडे पे 1.5 - 2 ₹ का नुकसान उठाना पड़ता है

लखनऊ: अंडा उत्तपादक किसानों का एक बैठक रिदा होटल लालबाग, लखनऊ में हुई। बैठक मे जनपद बाराबंकी एवम लखनऊ के पौल्ट्री उद्दमियों ने भाग लिया। बैठक का शुभारंभ कुककुट विकास समिति के अध्यक्ष वी पी सिंह के संक्षिप्त संबोधन से प्रारंभ हुआ। इसमें सभी कुककुट उद्यमियों के परिचय के बाद अग्रिम कार्यवाही समिति द्वारा तय एजेण्डे के अनुसार प्रारंभ हुई। अत:समस्त पौल्ट्री किसानों ने सरकार से तुरंत हस्तछेप करने को अनुरोध किया है ।
आये हुए पौल्ट्री अंडा उत्पादक किसानों का सबसे बड़ा दर्द अंडे के रेट को लेकर है कि उनके द्वारा उत्तपादित अंडे की कीमत (Venkey’s India) NECC एवम इनकी समितियों द्वारा बिना लागत को निर्धारित किए, मनमाने तरीके से किया जाता है। जबकि अंडे की लागत मूल्य ₹5 से अधिक आती है और किसानों को यही अंडा NECC द्वारा निर्धारित मूल्य पे बेचना पड़ता है, जो कि लागत मूल्य से बहुत कम होता है, जिससे किसानों को लगातार प्रति अंडे पे 1.5 – 2 ₹ का नुकसान उठाना पड़ता है लेकिन उपभोक्ताओ को यही अंडा ₹7 और ₹8 मे ही मिलता है। “माँग एवम आपूर्ति” का जो बहाना बताया जाता है वह झूठा प्रोपोगन्डा है। गर्मियों में भी प्रदेश अपने उत्तपादन से पूर्ति नही कर पा रहा है। ऐसे में  अंडे का रेट गिरा कर सस्ते में खरीदना और  मंहगे मे बेचना यह NECC का धँधा है। इससे सरकारी योजना से संचालित 30% पौल्ट्री फार्म  बंद हो गये है, तथा योजना के लिए विभाग द्वारा दी गई करोड़ो रू० की सब्सिडी बेकार हो रही है। इसके लिए पौल्ट्री किसानों ने Venkey’s group का बायकाट का पूर्ण निर्णय लिया है। अध्यक्ष वी पी सिंह, सचिव नाज़िम, उपाध्यक्ष उमैर अब्बासी, कोषाध्यक्ष मो. आकिफ, मीडिया प्रभारी वसीउल हसन, Dr टोडरमल, Dr सुभाष जैसवाल, सुधीर कुमार, प्रशांत केवलानी, मो नायाब, अमित चौरसिया, सैफ़ अहमद आदि शामिल थे।
बैठक में ज़िला स्तरीय कमेटी का भी गठन हुआ, जिसमे सर्वसहमति से ज़िला बाराबंकी से भरत डूबे और ज़िला लखनऊ से ज़ुनून नोमानी को अध्यक्ष चुना गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button