उत्तर-प्रदेश

17 मई को जेठ का पहला बड़ा मंगल, हनुमान मंदिरों में तैयारियां शुरु

  • लखनपुरी में जेठ के मंगलों का है विशेष महत्व
  • दो साल कोरोना के कारण नहीं मना सके बड़ा मंगल, इस बार भक्तों में है उत्साह

लखनऊ। भगवान की श्रीराम के अनुज वीरवर लक्ष्मण की बसाई लखनपुरी में भक्त हनुमान के जय-जयकार के दिन आ रहे हैं। इस बार 17 मई को पड़ने वाला मंगलवार हिन्दी माह के अनुसार जेठ माह का बड़ा मंगल होगा। लखनऊ में जेठ के बड़े मंगलों पर हनुमान मंदिरों में बड़ी धूम मचती है। इस दिन बड़ी संख्या में भक्त हनुमान के मंदिरों में जाते है। कोरोना के कारण पिछले दो सालो से तो भक्त ठीक से बड़ा मंगल मना नहीं पाए थे, लेकिन इस बार भक्तों में उत्साह दिख रहा है।

इस बार है पांच बड़े मंगल

पंचांग के अनुसार 16 मई को वैशाख की पूर्णिमा पड़ेगी और दूसरे दिन से 17 मई से जेठ माह शुरू हो जाएगा। इस बार पांच जेठ के बड़े मंगल होंगे। दूसरा और तीसरा क्रमशः 24 व 31 मई को मंगल पड़ेगा। जबकि दो बड़े मंगल जून महीने में छह और 13 की तारीख में पड़ेंगे। 13 को ही जेठ की पूर्णिमा पड़ जाएगी और यह माह समाप्त हो जाएगा।

नवाबी काल के नए और पुराने मंदिर की है खास महिमा

वैसे तो बड़े मंगलों पर इस पूरे शहर में दर्जनों की संख्या में हनुमान जी के छोटे-बड़े नए व पुराने मंदिर है। लेकिन यहां बड़े मंगलों पर नवाबी काल के दो अति प्राचीन मंदिरों की महिमा खास है। इसमें अलीगंज स्थित हनुमान जी का नया और पुराना मंदिर बना हुआ है। कहा जाता है कि ये दोनों मंदिर यहां नवाबी परिवारों ने ही बनवाए थे। उनकी मुरादें पूरी हुई थी, जिसके बाद उन लोगों ने मंदिर बनवाया था। इसका प्रमाण है कि पुराने मंदिर में आज भी शिखर पर चांद-तारा लगा हुआ है। नवाबों ने ही नए मंदिर के पास मेला लगवाना शुरू किया था। तब से यहां हर जेठ के बड़े मंगल पर लगता आ रहा है। इस मंदिरों का भी अपना एक इतिहास और महिमा है।

बड़े मंगलों पर होते है भंडारे और लगाए जाते हैं प्याऊ

जेठ के मंगलों को लेकर बजरंगबली के मंदिरों विशेष तैयारियां भी की जाती है। मंदिरों साफ-सफाई और सजावट की जाती है। कुंतलों प्रभु का भोग लगाया जाता है। दो दिन पहले से ही हनुमान जी को भोग चढ़ाने के लिए बूंदी और बेसन के लड्डू तैयार किए जाने लगते हैं। इसके अलावा एक खास बात यह होती है कि पूरे शहर में जगह-जगह भंडारे और प्याऊ लगाए जाते हैं, जहां हजारों की संख्या में भक्त प्रसाद पाते हैं। इन दिनों एक भक्तिमय वातावरण बन जाता है। लक्ष्मणपुरी हनुमतमय हो जाती है।

नए मंदिर में बंटेगा ढाई कुंतल लड्डू

अलीगंज के नए हनुमान मंदिर में बड़े मंगल को लेकर तैयारियां शुरू हो गई है। यहां सफाई का काम चल रहा है। इसके लिए बिजली व्यवस्था को ठीक किया जा रहा है। यहां के सेवादार राकेश दीक्षित बताते हैं कि मंदिर की ट्रस्ट की ओर से ढाई कुंतल बूंदी के लड्डुओं को आर्डर दिया गया है। इसी क्षेत्र के पुराने हनुमान मंदिर में भी रंगाई-पुताई का काम चल रहा हैं। मंदिर के महंत गोपाल दास ने बताया कि यहां गुड़धनिया का भोग लगाया जाता हैं। इसके अलावा हनुमान सेतु, गुलाचीन मंदिर सहित अन्य मंदिरों में भी बड़े मंगल की तैयारियां चल रही हैं।

Lahar Ujala

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button